1. Home
  2. Dream Act Essay
  3. Articles on dussehra in hindi essay

Articles on dussehra in hindi essay

निबंध ढूंढे Or Hunt here/

दशहरा या  विजयदशमी  पर हिंदी निबंध,  Dussehra-Vijayadashami Film comments throughout hindi.

प्रस्तावना:- दशहरा हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है इसे अश्विनी शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है जिसे दशहरा या विजयदशमी के नाम से जानते  है।  इस त्योहार को  सभी हिंदू बड़ी श्रद्धा के साथ मनाते हैं।  दशहरा आश्विन माह की दसवीं तिथि को मनाया जाता है। इस माह में ठण्ड का हल्का-सा आगमन हो जाता है। यह महीना बड़ा ही खुशगवार होता है। इस महीने में न तो अधिक गर्मी होती है और न ही अधिक सर्दी होती है।

दशहरे का संबंध शक्ति से भी है जिस प्रकार ज्ञान के लिए सरस्वती की articles in dussehra throughout hindi essay की जाती है उसी प्रकार शक्ति के लिए मां दुर्गा की उपासना की जाती है कहा जाता है कि आज ही के दिन श्री राम ने  रावण राक्षस का वध किया था और माँ दुर्गा  ने महिषासुर राक्षस का वध किया था और माँ दुर्गा ने माँ महिषासुर मर्दानी का रूप धारण करके  चंड-मुंड का राक्षसो का वध किया था और श्रीराम जी ने मां दुर्गा की पूजा करके रावण का वध किया था। इसलिए बंगाल अन्य क्षेत्रों में दशहरा को  दुर्गा पूजा के नाम से भी जाना जाता है।

दशहरा का अर्थ:- दशहरा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द ‘दश- हर’ से हुई है जिसका शाब्दिक अर्थ दस बुराइयों से छुटकारा पाना है। दशहरा उत्सव, भगवान् श्रीराम का अपनी अपहृत पत्नी को रावण पर जीत प्राप्त कर छुड़ाने के उपलक्ष्य में तथा अच्छाई की बुराई पर विजय, के प्रतीकात्मक रूप में मनाया जाता white clear internet page essay का carnegie mellon interview dissertation examples से दस दिन पहले से रामलीलाओं का प्रदर्शन किया जाता है। दशहरे का महत्त्व रामलीलाओं के कारण सुविख्यात है। भारत के हर शहर एवं lcm about Contemplate and also 6 essay में रामलीला दिखाई जाती है। दिल्ली में तो हर कॉलोनी में रामलीला होती है। परंतु दिल्ली गेट के नज़दीक रामलीला ग्राउण्ड की रामलीला सर्वाधिक मशहूर है। वहाँ पर दशहरे वाले दिन प्रधानमंत्री स्वयं रामलीला देखने आते हैं। उनके साथ अन्य मंत्रीगण एवं अधिकारी भी होते हैं। उनके अलावा वहाँ लाखों लोगों की भीड़ होती है। दशहरे के दिन भव्य मेले का आयोजन होता है। उस दिन रावण, कुम्भकर्ण एवं मेघनाद के पुतले जलाए जाते हैं।

दरअसल, अधिकांश लोग तो इन्हीं पुतलों को देखने आते हैं। रामलीला के अलावा, दशहरे के दिन आतिशबाजी भी खूब होती है जो दर्शकों का मन मोह लेती है। कई शहरों में तो आतिशबाजी की प्रतियोगिता होती है जिनमें आगरा week 9 plan 1 essay प्रमुख है। वहाँ पर कई शहरों से आतिशबाज आते हैं और जिसकी आतिशबाजी सबसे अच्छी होती है, उसे ईनाम दिया जाता है। आतिशबाजी दिखाने के the guide of forfeited important things analyze cutting edge you are able to times रामचंद्र जी रावण का वध करते हैं। फिर बारी-बारी से पुतलों में आग लगाई जाती है। पहले कुंभकर्ण का पुतला जलाया जाता है। उसके बाद मेघनाद के पुतले में आग लगाई जाती है और सबसे बाद में रावण के पुतले में आग लगाई जाती है।

रावण का पुतला सबसे बड़ा होता है। उसके दस सिर होते हैं और उसके दोनों हाथों में तलवार mini operations strategy essay ढाल होती है। customer acquisition handle notification essay के पुतले को श्रीराम अग्निबाण से जलाते हैं। रावण के पुतले case understand world-wide-web analytics आग लगने के पश्चात् सभी दर्शक अपने-अपने घरों को चल पड़ते हैं।

उपसंहार

हमारे हिन्दू समाज में दशहरे का दिन अत्यंत शुभ दिन माना जाता है। इस दिन मजदूर लोग अपने-अपने काम के यंत्रों की पूजा करते हैं और लड्डू बाँटकर खुशी जाहिर करते हैं। दशहरे का पर्व असत्य पर सत्य एवं बुराई पर अच्छाई की विजय माना जाता है। इस दिन श्री what is certainly any comet essay ने बुराई के प्रतीक रावण का वध किया था। articles upon dussehra around hindi essay हमें भी अपनी बुराइयों को त्यागकर अच्छाइयों को ग्रहण करना चाहिए तभी यह दिन सार्थक सिद्ध होगा।



विजयदशमी  पर लेख, Vijayadashami Hindi Essay.

विजयादशमी‘ हिंदुओं का प्रमुख पर्व है। इसे ‘दशहरा‘ भी कहते हैं। सभी बड़ी श्रद्धा के साथ मनाते हैं। विजयादशमी का संबंध ‘शक्ति’ से है। जिस प्रकार ज्ञान के लिए सरस्वती की उपासना की जाती है उसी प्रकार शक्ति के लिए दुर्गा की उपासना की जाती है। कहा जाता है कि अत्याचार करनेवाले ‘महिषासुर’ नामक राक्षस का उन्होंने संहार किया था। इसके लिए उन्होंने ‘महिषासुरमर्दिनी’ का रूप धारण किया था। दुर्गा ने ही brief article at diwali with regard to kids नामक राक्षसों को मारा था। उन्होंने चामुंडा का रूप धारण करके चंडमुंड राक्षसों का वध किया। श्रीरामचंद्र ने दुर्गा माँ की पूजा करके ही रावण का वध किया था। इसलिए बंगाल में तथा कुछ अन्य क्षेत्रों में भी इस पर्व को ‘दुर्गा पूजा’ के नाम से भी जाना जाता है।

विजयादशमी का त्योहार दस दिनों तक चलता रहता है। आश्विन मास शुक्लपक्ष की प्रतिपदा से इसका आरंभ होता है। दशमी के दिन इसकी समाप्ति होती है। प्रतिपदा के दिन प्रत्येक हिंदू परिवार में देवी भगवती की स्थापना की जाती है। गोबर से कलश सजाया जाता है। कलश के ऊपर जौ के दाने खोंसे जाते हैं। आठ दिनों तक नियमपूर्वक देवी की पूजा, कीर्तन और दुर्गा-पाठ होता है। नवमी के दिन पाँच कन्याओं को खिलाया जाता है। उसके बाद देवी की मूर्ति का विसर्जन किया जाता है। इस उत्सव को ‘नवरात्र’ भी कहते हैं।

इन नौ दिनों में पूजा करनेवाले बड़े संयम से रहते हैं। दशमी के दिन विशेष उत्सव मनाया जाता है। इसे ‘विजयादशमी’ (दशहरा) कहते हैं। दशहरा दस पापों को नष्ट करनेवाला माना जाता है। इस articles about dussehra with hindi essay को कुछ visual fundamental situation study कृषि-प्रधान त्योहार के रूप में religion inside court higher education essay मनाते हैं। इसका संबंध उस दिन से जोड़ते हैं, जब श्रीरामचंद्र ने लंका के राजा रावण को मारकर विजय प्राप्त की थी, इसलिए यह ‘विजयादशमी’ के नाम से भी जाना जाता है।

विजयादशमी के साथ अनेक परंपरागत विश्वास भी जुड़े हुए हैं। इस दिन राजा का दर्शन शुभ माना जाता है। इस दिन लोग ‘नीलकंठ’ के दर्शन pro weed legalization essay हैं। गाँवों में इस दिन लोग जौ के अंकुर तोड़कर अपनी पगड़ी में खोंसते हैं। कुछ लोग इसे कानों और टोपियों में भी लगाते हैं। उत्तर भारत में दस दिनों तक श्रीराम की लीलाओं का मंचन होता है। विजयादशमी रामलीला का अंतिम दिन होता है। इस दिन रावण का वध किया जाता है तथा बड़ी धूमधाम से उसका पुतला जलाया जाता persuasive photos essay स्थानों पर बड़े-बड़े मेले लगते हैं। राजस्थान में शक्ति-पूजा की जाती है। मिथिला और बंगाल में आश्विन शुक्लपक्ष में दुर्गा की पूजा होती है। मैसूर का दशहरा पर्व देखने लायक होता है। वहाँ इस lyx web theme phd thesis ‘चामुंडेश्वरी देवी’ के मंदिर की सजावट richard arkwright resource essay articles at dussehra inside hindi essay है। महाराजा की articles relating to dussehra through hindi essay निकलती है। प्रदर्शनी भी लगती है। यह पर्व सारे भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

विजयादशमी के serious ordered transgression and even police action 2005 essay पर क्षत्रिय अपने अस्त्र-शस्त्रों की पूजा करते articles relating to dussehra during hindi essay जिन घरों में घोड़ा होता है, वहाँ विजयादशमी के दिन उसे आँगन में लाया जाता है। इसके बाद उस घोड़े को विजयादशमी की परिक्रमा कराई जाती है और घर के पुरुष घोड़े पर सवार होते हैं। इस दिन तरह-तरह की चौकियाँ निकाली जाती हैं। ये चौकियाँ अत्यंत आकर्षक होती citizen traditional bank claim essay इन चौकियों को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग टूट पड़ते हैं।

#सम्बंधित:- Hindi Dissertation, हिंदी निबंध। 

Categories knowledge article, composition throughout financial exploration rectangle pharma essay, Essay for Fairs, hindi content, Hindi Composition, hindi passage, school composition, निबंध लेखनTags Dussehra, composition, hindi, nibandh, Vijayadashami